बेरोजगारी पर निबंध | Essay on Unemployment in Hindi

प्रस्तावना 

The problem of unemployment in India essay in Hindi : बेरोज़गारी बारे मे कुछ यह शब्द ही काफी है इसका मतलब समझने के लिए बेरोज़गारी किसी भी देश के विकास में मुख्य व खास बाधाओं में से एक है। वर्तमान मे भारत में बेरोज़गारी काफी गंभीर मुद्दा है। हमारे  देश मे शिक्षा का अभाव, रोज़गार के अवसरों की कमी और प्रदर्शन संबंधी समस्याएं कुछ ऐसे कारक हैं जो बेरोज़गारी के कई कारणों मे से एक है। हमारे देश मे इस समस्या को खत्म करने के लिए देश मे भारत की केन्द्र व राज्य सरकार को प्रभावी कदम उठाने की जरूरत है। भारत जैसे विकासशील देशों के सामने आने वाली मुख्य समस्याओं में से एक बेरोज़गारी भी कारण है। यह न केवल देश के आर्थिक विकास में खड़ी प्रमुख बाधाओं में से वरन् व्यक्तिगत और पूरे समाज पर भी एक साथ कई तरह के नकारात्मक प्रभाव डालती है। इस बेरोज़गारी के कारण न केवल व्यक्तियों पर बुरा प्रभाव पड़ता है बल्कि यह बेरोज़गारी पूरे समाज को भी गंभीर प्रभावित करती है। वैसे तो कई कारक हैं जो बेरोज़गारी का कारण बनते हैं। बेरोज़गारी देश मे एक मुख्य मुद्दा है जिसे हमको समझने की आवश्यकता है। 

बेरोजगारी क्या है (What is Unemployment in Hindi)?

Shikshit berojgari ki samasya essay in hindi : बेरोज़गारी जीवन के उस अवस्था को कहा जाता है जब देश में कार्य करने वाले युवा / व्यक्ति अधिक होते हैं तथा वह प्रचलित मजदूरी दर पर काम करने के योग्य व इच्छुक होते हैं या कुछ भी काम करने के लिए मजबूर हो जाते है परंतु फिर भी उन्हें अच्छा कार्य नहीं मिलता दूसरे शब्दों में यू कहे की मानसिक एवं शारीरिक रूप से काम करने के योग्य व इच्छुक व्यक्तियों को प्रचलित मजदूरी दर पर रोज़गार ना मिलना ही बेरोज़गारी है। बेरोज़गारी को नियंत्रण करना भी हमारे हाथ मे ही है। 

बेरोजगारी क्यों होती है (Why there is Unemployment in Hindi)?

Bharat mein berojgari ki samasya : बेरोज़गारी के वैसे तो कई कारण है जो की बेरोज़गारी को प्रभावित करते है। बेरोज़गारी को उत्तपत्र करने वाले कारकों मे से यह कुछ निम्न है। 

  • बढती बेरोजगारी – भारत के आज की जनसंख्या वर्तमान मे तकरीबन 136.64 करोड थे जो की काफी तेजी से बढ रही है। बढती जनसंख्या के कारण की देश मे बेरोजगारी काफी तेजी से बढ रही है। 
  • पिछडी हुई कृषि – भारत मे आज समय मे कृषि मे भी कई सारी समस्याएँ है जिस वजह से भी देश मे यह बढती बेरोज़गारी का एक कारण है। 
  • गरीब – गरीबी भी बढती बेरोज़गारी का एक कारण है जो की इस समय मे काफी तेजी से फैल रही है। 

बेरोजगारी के परिणाम (Result of Unemployment in Hindi)

Problem of unemployment in hindi : जिस प्रकार देश मे बेरोज़गारी की वजह से गंभीर सामाजिक-आर्थिक मुद्दे हो रहे है। इससे न केवल एक व्यक्ति बल्कि इससे पूरा समाज प्रभावित होता है और वर्तमान मे हो भी रहा है। आगे आपको बेरोज़गारी के परिणामों के बारे मे बताया गया है जो की एक गंभीर मुद्दा है। 

  • गरीबी में वृद्धि:– यह कहना बिलकुल सही है कि बेरोज़गारी दर में वृद्धि से ही हमारे देश में गरीबी की दर में वृद्धि हुई है। देश के आर्थिक विकास को बाधित करने के लिए बेरोज़गारी एक मुख्य कारण है। 
  • अपराध दर में वृद्धि:– बेरोज़गारी से ही देश मे अपराधों मे वृद्धि हो रही है जैसे चैरी करना, डकैती इसके अलावा भी कई व्यवहारिक घटनाओं का यह कारण है। 
  • श्रम का शोषण:– आमतौर पर देखा जाता है की कई जगह कामों मे श्रम पर कार्मिको को शोषण करते है जैसे कई जगह ठेकेदार पद्धति इत्यादि। कई जगह ऐसे देखा जाता है ही कई छोटे श्रमों मे कार्मिको के साथ मानसिक शौषण होता होता है।
  • राजनैतिक अस्थिरता:– कहा जाता है की देश मे नागरिकों को समानता का अधिकार दिया जाता है परन्तु यह कहना गलत नही होगी की देश मे बेरोज़गारी व गरीबी के कारण राजनैतिक मे भी अस्थिरता आती है। 
  • मानसिक स्वास्थ्य:– बेरोज़गारी से लोगो को मानसिक बिमारी का भी सामना करना पडता है जो की एक घाटक परिणाम शाबित हो सकता है। 
  • कौशल का नुकसान:– एक विशेष कौशल वाले नागरिकों को भी बेरोज़गारी के कारण नुकसान होता है, इससे उसके कौशल को भी नुकसान होता है। 

बेरोजगारी एक अभिशाप (Unemployment a Curse in Hindi)

Berojgari ek abhishap par nibandh in hindi : बेरोज़गारी किसी भी देश या समाज के लिए आज के समय मे एक अभिशाप है। बेरोज़गारी से निर्धनता भुखमरी तथा मानसिक अशांति फैलती है तो दूसरी ओर इससे युवाओं में आक्रोश तथा अनुशासनहीनता भी बढ़ती है। बेरोज़गारी से चोरी, डकैती, हिंसा, अपराध एवं आत्महत्या अधिक समस्याओं का एक मूल कारण है। बेरोज़गारी बडा भयंकर विष हैं। बेरोज़गारी को हम समाज के लिए नासिर के रूप मे भी देख सकते है। 

बेरोजगारी के निवारण के उपाय (Unemployment Prevention Measures in Hindi)

Berojgari ki samasya se nivaran ke upay hindi me : बेरोज़गारी के निवारण के लिए भी हमे कई कार्य करने चाहिए जो की निम्न है –

  • जनसंख्या पर नियंत्रण – जनसंख्या पर नियंत्रण करने से ही रोज़गार के अवसर जो कि सीमित है, उनका उपयोग किया जा सके।
  • शिक्षा प्रणाली मे परिवर्तन – शिक्षा में परिवर्तन व नई शिक्षा पद्धति से की बेरोज़गारी की कमी का कारण बनेगी।
  • कुटीर उद्योग क्षेत्रों मे विकास – देश और राज्य में छोटे व कुटीर उद्योगों का विकास करना भी आवश्यक है।
  • औद्योगिकरण – शहरों में नए औद्योगिकरण की भी आवश्यकता है जो कि बेरोज़गारी को कम कर सकते है।
  • सहकारी खेती 
  • उद्योगो का विकास
  • समान रोजगार के अवसर

हमारे देश में बेरोज़गारी जीवन के उस अवस्था को कहा जाता है जब यहां देश में कार्य करने वाले युवा / व्यक्ति अधिक होते हैं तथा वह प्रचलित मजदूरी दर पर काम करने के योग्य व इच्छुक होते हैं या कुछ भी काम करने के लिए मजबूर हो जाते है जैसे दिहाड़ी करना इतियादी, परंतु फिर भी उन्हें अच्छा कार्य नहीं मिलता दूसरे शब्दों में यू कहे की मानसिक एवं शारीरिक रूप से काम करने के योग्य व इच्छुक व्यक्तियों को प्रचलित मजदूरी दर पर रोज़गार ना मिलना ही बेरोज़गारी है।

उपंसहार 

बेरोज़गारी हमारे समाज में विभिन्न समस्याओं का मूल कारण है। हालांकि हमारे देश व राज्य की सरकार ने इस समस्या को कम करने के लिए पहले से ही कई पहल की है लेकिन उठाये गये उपाय पर्याप्त प्रभावी साबित नहीं हैं। इस समस्या के कारण कई विभिन्न कारकों को प्रभावी और एकीकृत समाधान देखने के लिए अच्छी तरह से उनका अध्ययन किया जाना चाहिए। यह समय है कि देश की सरकार को इस मामले की संवेदनशीलता को पहचानना चाहिए और इस मामले पर कम करने के लिए कुछ गंभीर कदम उठाने चाहिए।