लॉक डाउन क्या है और इसे किन परिस्थितियों में लगाया जाता है ?

इन दिनों कोरोना वायरस अपने प्रकोप से कई देशों को काफी ज्यादा क्षति पहुंचाई हुई है। अब तक कोरोना वायरस से पूरी तरह स्वस्थ होने वाली कोई भी सटीक दवा का निर्माण नहीं हो सका है। 

इसी वजह से इस महामारी को ठीक करना या यूं कहें , कि नियंत्रण में करना और संभव के बराबर हो गया है। इन दिनों कोरोना वायरस से लोगों को बचाने के लिए लॉकडाउन किया गया है। 

ऐसी विषम परिस्थिति से पहले बहुत कम लोग ही लॉकडाउन क्या होता है ? इसके बारे में जानते थे।आज कोरोना वायरस की वजह से संपूर्ण भारतवर्ष के अलावा कई अन्य बड़े बड़े देशों में भी लॉकडाउन की स्थिति को लागू किया गया है। 

लॉकडाउन लगने के बाद से लोग यह जानने के लिए उत्सुक हो रहे हैं , कि आखिर लॉकडाउन कब और किन परिस्थितियों में लगाया जाता है। 

आज हम इस लेख के माध्यम से आपको यह बताएंगे कि लॉक डाउन क्यों लगाया जाता है ? और इसको लगाने के पीछे कौन सी परिस्थितियां होती हैं। रोचक जानकारी के बारे में जानने के लिए आप हमारे इस लेख को अंतिम तक अवश्य पढ़ें।

लॉकडाउन क्या होता है ?

सबसे पहले हम जानते हैं , कि लॉकडाउन को हिंदी में तालाबंदी भी कहा जाता है। जब किसी ऐसे खतरे की आशंका होती है , जो मनुष्य जीवन और पूरे समाज को संकट से किसी भी प्रकार का अत्यधिक नुकसान या हानि होने का डर रहता है , तो ऐसी परिस्थिति में लॉकडाउन की सेवा को शुरू किया जाता है। 

आवश्यकता पड़ने पर लॉकडाउन जैसी स्थिति को राज्य या केंद्र सरकार भी लागू कर सकती है। आज हमारे देश में 3 मई से तीसरे लॉकडाउन को शुरू कर दिया गया है। तीसरे लॉकडाउन को भारत में सरकार द्वारा दो हफ्तों के लिए बढ़ाया गया है। 

आज हमारे संपूर्ण भारतवर्ष में केवल कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए लॉकडाउन को लगाया गया है। लॉक डाउन की परिस्थिति में लोगों को अपने आवश्यक एवं बहुत जरूरी कार्यों को करने के लिए ही छूट प्रदान की जाती है।

लॉकडाउन किन परिस्थितियों में लगाया जाता है ?

जब किसी देश या राज्य में इसी प्रकार की गंभीर स्थिति उत्पन्न हो जाती है। जिसमें लोगों को जान माल का खतरा भी हो सकता है , ऐसी स्थिति में लॉकडाउन को लगाया जाता है।

आज भारत देश समेत कई अन्य बड़े देशों में भी कुरौना के संक्रमण एक दूसरे इंसानों में नाम फैलने पाए इसीलिए लॉकडाउन कर दिया गया है। घर से बाहर निकलने में संक्रमण का खतरा अत्यधिक हो जाता है। कोरोना वायरस के संक्रमण को नियंत्रण में करने के लिए ही लॉकडाउन को लगाया गया है।

लॉक डाउन के दौरान में किन कार्यों को किया जा सकता है और किन कार्यों को नहीं ?

लॉकडाउन के दौरान कुछ विशेष और महत्वपूर्ण कार्यों को करने के लिए अनुमति रहती है। उनमें से कुछ इस प्रकार वर्णित है।

lockdown meaning in hindi

1 . लॉकडाउन के दौरान घर से बाहर निकलने की अनुमति नहीं होती है।

2 . इस परिस्थिति में व्यक्ति अपने लिए आवश्यक दवा और खाने-पीने की जरूरतों वाली वस्तुओं की खरीददारी करने एवं बैंक अत्याधिक से पैसे निकालने लिए बाहर जा सकता है।

3 . लॉकडाउन के स्थिति में बड़े-बड़े कारखाने , शॉपिंग मॉल और अन्य प्रकार की चीजों पर रोक लगाया जाता है। यदि इन क्षेत्रों में रोक नहीं लगाई जाएगी तो लोग एकत्रित होंगे और फिर संक्रमण का खतरा बढ़ना शुरू हो जाएगा।

4 . इस परिस्थिति में पुलिस थाने , जिला कलेक्टर , पुलिस अधीक्षक एवं अन्य उच्च अधिकारियों के सहायता हेतु आप उनको संपर्क कर सकते हैं।

5 . इस विषम परिस्थिति में सभी प्रकार के प्राइवेट स्कूल , सरकारी स्कूल और प्राइवेट सेक्टर कांटेक्ट वाले दफ्तर भी बंद किए जाते हैं।

सबसे पहले कब और कहां पर लॉकडाउन को लगाया गया था ?

. अमेरिका में हुए 9/11 आतंकी हमले के दौरान लॉक डाउन को लगाया गया था यह सबसे पहला लॉकडाउन था।

. दिसंबर वर्ष 2005 में न्यू साउथ वेल्स पुलिस फोर्स ने वहां पर हो रहे दंगे को रोकने के लिए लॉकडाउन की स्थिति को लगाया हुआ था।

. बोस्टन शहर में आतंकियों को खोजने के लिए 19 अप्रैल वर्ष 2013 को लाभ डाउन को लगाया गया था।

. पेरिस में वर्ष 2015 में ब्रुसेल शहर को पूरी तरह से लाभ डाउन कर दिया गया था। इस शहर में कुछ संदिग्ध आतंकवादियों को पकड़ने के लिए ऐसा किया गया था।

. वर्ष 2020 में मार्च महीने के 25 तारीख को भारतवर्ष समेत कई अन्य बड़े देशों में लॉकडाउन को लगाया गया है।

लॉकडाउन को लगाने के क्या-क्या फायदे होते हैं ?

ऐसे किसी परिस्थिति में जब मानव जाति समेत देश की आर्थिक स्थिति भी बिगड़ने की स्थिति में होती है , तो ऐसे में लॉकडाउन को लगाया जाता है। किसी विषम परिस्थिति में लॉकडाउन लगाने के बहुत फायदे होते हैं , जो इस प्रकार निम्नलिखित है।

. आज की परिस्थिति में यदि लॉक डाउन नहीं लगाया जाता तो , कोरोना वायरस जैसे संक्रमण का खतरा अपने उच्च चरण पर होता।

. इस परिस्थिति में घर में रहकर अपने पसंद ना पसंद को पूरा कर सकते हैं।

. आज जब लॉकडाउन लगाया गया है , तब ऐसे लोग जो अपने परिवारों को समय नहीं दे पाते थे , अपने कामों में दिनभर लगे रहते थे आज वह लोग अपने परिवार को पूरा पूरा समय दे रहे हैं।

. आज आपको बहुत से ऐसे लोग मिल जाएंगे जो घर में रहकर नए-नए प्रकार के व्यंजनों को सीख रहे हैं और उन्हें घर में बना रहे।

. आज लॉक डाउन की वजह से ही जिन लोगों के साथ उनके अंदर ही दबे पड़े थे , आज वह शौक को पूरा करने के अवसर मिले हुए हैं।

.आज जो माता-पिता अपने बच्चों को समय नहीं दे पाते थे वे सभी लोग अपने बच्चों के साथ समय बिता रहे हैं और उनके साथ नए नए खेल खेल रहे हैं।

. जो लोक नृत्य सीखना चाहते थे वह ऑनलाइन नृत्य सीख रहे हैं और इसका अभ्यास भी कर रहे हैं।

लेखक:
अभिषेक मौर्या