मॉब लिंचिंग – जानिए क्या होती है Mob Lynching

mob lynching meaning in hindiदोस्तों पिछले कुछ दिनों से समाचार पत्रों, न्यूज़ चैनल्स तथा social media आदि पर आपने एक शब्द पढ़ा और सुना होगा। उसका नाम है मॉब-लिंचिंग (Mob Lynching). आये दिन कभी News Channels पर मॉब लिंचिंग पर कोई न कोई बहस (debate) चल रही होती है और लोग आपस में एक दूसरे आरोप -प्रत्यारोप लगाकर लड़ते -झगड़ते दिखाई देते हैं। जबकि उस बहस में समाज के बहुत बड़े बुद्धिजीवी वर्ग, highly qualified people, politicians व अन्य लोग शामिल होते हैं। आजकल तो लोग घर-परिवार, दोस्त, रिस्तेदार, office, बस, train जहाँ भी देखो इसी के बारे में चर्चा करते दिखाई देते हैं। मैंने जब पहली बार मॉब लिंचिंग या अपहनन शब्द सुना था तो मुझे भी नहीं समझ में नहीं आ रहा था कि आखिर ये है क्या जिस पर लोग गली -गली में चर्चा कर रहे हैं। आइये हम जानते हैं मॉब लिंचिंग ऐसी कौन सी बला का नाम है जिस के पीछे इतना सारा बवाल हो रहा है।




क्या है मॉब लिंचिंग?
दोस्तों आजकल हमारे देश में बहुत सारी घटनाएँ ऐसी हो रहीं जिनसे आम आदमी के साथ -साथ सरकार को भी परेशान करके रख दिया है। पिछले कुछ समय में बहुत सारी घटनायें घटित हुईं हैं जिसमें भीड़ या किसी समूह विशेष ने मिलकर एक व्यक्ति की हत्या कर दी। जिन लोगों की इन घटनाओं में मृत्यु हुई है वो विभिन्न अलग -अलग घटनाओं में आरोपी थे। इनमे से कोई गौमाँस खाने का आरोपी था, कोई चोरी, कोई दुष्कर्म, कोई गायों को बूचड़खाने ले जाने का आरोपी तो कोई किसी जुलूस में हिस्सा लेने गया था। जब कोई भीड़ या समूह अनियंत्रित होकर किसी वारदात को अंजाम देते हैं तो इसे मॉब लिंचिंग का नाम दिया जाता है।

जब बिना किसी व्यवस्थित न्याय प्रक्रिया के किसी अप्रशासनिक समूह द्वारा किसी व्यक्ति विशेष को शारीरिक प्रताड़ना या दण्डित किया जाता है तो इसे मॉब लिंचिंग कहते हैं। मॉब लिंचिंग अक्सर भीड़ द्वारा अन्यायिक रूप से अपराधियों को दंडित करने या किसी समूह को धमकी देने, सार्वजनिक फांसी, या अन्य शारीरिक प्रताड़ना को चिह्नित करने को कहा जाता है। भीड़ कभी भी व्यक्ति को अपना पक्ष रखने का मौका ही नहीं देती है। व्यक्ति लोगों के सामने गिड़गिड़ाता रह जाता है और उसकी हत्या कर दी जाती है।




मॉब लिंचिंग का जिम्मेदार कौन है?
दोस्तों अगर देखा जाये तो मॉब लिंचिंग के जिम्मेदार हम सभी हैं जो बिना कुछ जाने व सोचे -समझे किसी के बहकावे में आकर घटनाओं को अंजाम दे देते हैं। मॉब लिंचिंग के बहुत सारे कारण हैं जिनमे से कुछ नीचे दिए गए हैं –

  • सोशल मीडिया – Social Media (Whatsapp, Facebook, Twitter, etc.) में फैली हुई झूठी खबरों को पढ़कर लोग किसी भी व्यक्ति को लोग अपराधी मान लेते हैं। और लोग उसे पीट -पीटकर उसकी हत्या कर देते हैं।
  • Government सोशल मीडिया पर अंकुश लगाने में नाकाम रही है।
  • Whatsapp और Facebook पर सबसे ज्यादा झूठी अफवाहें फैलाई जातीं हैं।
  • राजनीतिक दलों से जुड़े कुछ लोग भी वोट लेने के चक्कर में समाज में अशांति फैलाते हैं।

मॉब लिंचिंग के परिणाम

  • कुछ दिनों पहले Jammu and Kashmir में हमारे सेना के जवानों की पत्थर मार-मार कर हत्या कर दी गई थी।
  • भीड़ द्वारा बहुत से बेकसूर लोग भी मारे गए हैं जिनका उस घटना से कोई सम्बन्ध ही नहीं था।
  • इससे जन और धन दोनों की हानि हो रही है।
  • लोगों का प्रशासन, सरकार व कानून के प्रति विश्वास गिरता जा रहा है।
  • हमारे देश का नाम विदेशों में भी बदनाम हो रहा है। ऐसी घटनाओं को जानकर विदेशी लोग भी यहाँ आने से डरने लगे हैं।
  • मॉब लिंचिंग का हमारी अर्थव्यवस्था पर भी असर पड़ता है।

अतः मेरा आप सभी से अनुरोध है कि बिना सोचे समझे किसी भी घटना को अंजाम न दें और अगर ऐसा कुछ होता भी है तो उसको कानून के हवाले कर दें। क्योंकि न्याय देना न्यायपालिका का काम है हमारा नहीं। सरकार को चाहिए की इन सब घटनाओं को रोकने के लिए प्राथमिकता से कदम उठाये।

धन्यवाद !

loading...

Comments

  1. By Ashoka kumar

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *