भारतीय व्यवस्था में पिसता आदमी

मित्रो, अजीब से हालात इस देश की है, यहाँ न ही ब्यवस्था है और न ही कानून का भय जो कल था वही आज भी है, जिस प्रकार पूर्व में भी शक्तिशाली लोग कमजोर पर राज करते थे, आज भी वही है बस तरीके बदल गये हैं, आज आदमी समझौतों का आदी हो गया है किसी भी स्तर पर जा कर बस अपना काम निकलना चाहता है, समाज पर क्या प्रभाव पड़ता इससे उसको कोई सारोकार नही है रीढ़ विहीनता की हद हो गई है…

अपनी ही नजर में गिरता है आदमी
रोजना समझौते में झूलता है आदमी
मर-मर क्यों जीता रहता है आदमी
घूँट कड़वे क्यों पीता रहता है आदमी

मुर्दों सा शहर नही जिन्दा है आदमी
शायद तनिक नही शर्मिंदा है आदमी
‘समझौतों’ बेबस कारिन्दा है आदमी
परकटा लाचार सा परिन्दा है आदमी

अतुल सिंह ‘मोगरा’
ग्राम-नराईचपार, पो०-नेवास, थाना-उरुवा
तह० खजनी, जिला-गोरखपुर, उ० प्र०, पिन कोड न० 273407
मो० न० 09935513623, 07376647060

यदि आपके पास स्वलिखित कोई अच्छे लेख, कविता, News, Inspirational Story, या अन्य जानकारी लोगों से शेयर करना चाहते है तो आप हमें “info@sochapki.com” पर ईमेल कर सकते हैं। अगर आपका लेख हमें अच्छा लगा तो हम उसे आपकी दी हुई details के साथ Publish करेंगे।
धन्यवाद!

loading...

Comments

  1. By Kriz

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *