राष्ट्र निर्माण एक परिकल्पना

वास्तव में राष्ट्र निर्माण एक ऐसी परिकल्पना है जिसमे राष्ट्र से जुड़े हर पहलू का ध्यान रखना अत्यंत आवश्यक है:

कुछ लोग राष्ट्र निर्माण मात्र और मात्र राजनीतिक प्रतिनिधित्व से जोड़कर देखते हैं परन्तु राष्ट्र निर्माण मात्र राजनीती से ही नही होता, राष्ट्र निर्माण होता है राष्ट्रवासी से यदि देश में निवास करने वाला प्रत्येक राष्ट्रवासी यह ठान ले कि हमें अन्याय नहीं सहना है अन्याय नहीं करना है तो राष्ट्र निर्माण की वह बुनियाद पड़ेगी कि युगों के बीतने पर भी राष्ट्र की ईमारत बुलंद रहेगी। मैं निजी तौर पर राष्ट्रनिर्माण में युवाओं के प्रतिनिधित्व कि बात करता हूँ उसका कारण यह है कि आज देश के विकास एवं राष्ट्र निर्माण के लिए जो महत्वपूर्ण बिंदु हैं वह हैं शिक्षा, उद्योगधंधे, सैन्य क्षमता, कृषि, एवं राजनीति। मेरे मुताबिक ये पांच क्षेत्र ऐसे हैं जो यदि किसी भी देश में अपनी संपूर्ण शक्ति एवं क्षमताओं से कार्य करें तो उस देश के विकास को कोई नहीं रोक सकता। इन सभी क्षेत्रों में युवाओं की भूमिका अत्यंत महत्वपर्ण है यह बात सभी जानते हैं।

अगर स्वछन्द की जगह युवा ऊर्जा स्वतंत्र हो, सुसंगठित हो, स्वस्थ मार्गदर्शन दिया जाए उसे उसके मनोभाव और इक्षाशक्ति को सही मायने में समझा जाए उसके जोश को सही दिशा में गति दी जाए तो यह युवा शक्ति सफलता के झंडे गाड़ देगी उस हर क्षेत्र में जहां उसका स्वस्थ दोहन किया जाएगा।

राष्ट्र निर्माण एक परिकल्पनाआज युवा शक्ति के भीतर जोश तो है लेकिन जोश के साथ आक्रोश भी है जोश के साथ आक्रोश का होना ठीक बात नहीं है। किन्तु यह आक्रोश निराधार नहीं है इसके पीछे असंख्य वजहें भी है। युवाओ के लिए देश में संसाधनों की कमी नहीं है न ही सम्भावनाओ की ही कमी है अगर कमी है किसी चीज की तो वह है युवा शक्ति को उन संसाधनो के दोहन के लिए सुनियोजित ढंग से तैयार न किये जाने की। युवा ऊर्जा का समुचित उपयोग देशहित में तभी हो सकता है जब उनके भीतर से आक्रोश ख़त्म किया जाए। और उन्हें प्लेटफार्म के साथ – साथ स्वस्थ वातावरण भी उपलब्ध कराया जाए। इसके साथ ही उनमे सकारात्मक सोच विकसित की जाए यह कार्य केवल और केवल देश की बुज़ुर्ग पीढ़ी के द्वारा ही सम्भव है यानी पहाड़ी नदी जैसा जोश रखने वाला युवा को अनुभवी लोगो के कुशल दिशानिर्देशन की जरुरत है। जरुरत है युवा शक्ति को सही दिशा में मोड़ने की। आज हमारे देश में युवा पीढ़ी और बुज़ुर्ग अनुभवी पीढ़ी के बीच एक मूक द्वन्द चल रहा है जो देश के विकास की यात्रा में सबसे बड़ा बाधक बना हुआ है। अनुभवी पीढ़ी सहज नहीं है युवा पीढ़ी के प्रति और युवा पीढ़ी अनुभवी पीढ़ी के सामने गिड़गिड़ाना नहीं चाहती अतः एक ईगो का शिकार है तो दूसरा कुंठा का और दोनों के बीच का ये अंतर्द्वंद ख़त्म हुए बिना युवा ऊर्जा का सही दिशा में प्रयोग असंभव है।

अगर हम युवा की परिभाषा गढ़ने चले तो हमारे सामने जो मानक आता है वह 18 से 40 की उम्र सीमा के ब्यक्ति को युवा के रूप परिभाषित करता है ऐसा करने के पीछे पुख्ता वजह भी है क्यों कि इस उम्र सीमा के ब्यक्ति के भीतर जोश, ज़ज़्बा, ऊर्जा, शक्ति, प्रबल कर्तब्यनिष्ठा, नए – नए प्रयोग परिक्षण करने की क्षमता निहित होती है। तर्क – वितर्क करना, त्वरित निर्णय लेना, हर काम को ऊर्जा के साथ करना, क्रांति और विकास का नया अध्याय लिखना, समय के साथ कदम दर कदम चलने का साहस एक युवा की सबसे बड़ी पूँजी और पहचान होती है। सही शब्दों में अगर कहे तो किसी देश के सर्वांगीड़ विकास का मॉडल होता है उस देश का युवा। अगर सही मायने में युवा ऊर्जा, युवा शक्ति का उपयोग देश के विकास हेतु किया जाए तो युवा ऊर्जा देश का स्वस्थ भविष्य तय करने में सहायक सिद्ध होगी।

युवा पीढ़ी को अनुभव कराना होगा की वह देश के विकास की प्रथम और सबसे ताकतवर कड़ी है। बिना उसके सहयोग के देश की उन्नति सम्भव नहीं है। न ही सम्भव है विकासशील भारत का विकसित बनना ही। किसी ने सही कहा है उस ओर ज़माना चलता है जिस ओर जवानी ( युवा शक्ति ) चलती है। तो आईये आजादी के इतने साल बाद ही सही एक युवा दार्शनिक का सपना साकार करे, भारत को युवा ऊर्जा के सकारात्मक दोहन द्वारा विकसित देश बनाने की ओर अग्रसर हो। युवा मेधा युवा ऊर्जा के आधार पर एक युवा ऊर्जावान विकसित भारत का निर्माण करने का संकल्प ले। युवाओ के भीतर निर्माण का सपना सजाये, उन्नति का बीज बोयें, सही मायने में इसके बाद ही स्वस्थ विकसित भारत का सपना साकार होगा, देश का हर युवा निर्माण का प्रतीक बनेगा, निर्माण का प्रयाय बनेगा और पूरी निष्ठां के साथ, ईमानदारी के साथ अपना सौ प्रतिशत देश को देगा।

जर हिन्द। जय भारत।
( भागवत शुक्ल )

यदि आपके पास स्वलिखित कोई अच्छे लेख, कविता, News, Inspirational Story, या अन्य जानकारी लोगों से शेयर करना चाहते है तो आप हमें “info@sochapki.com” पर ईमेल कर सकते हैं। अगर आपका लेख हमें अच्छा लगा तो हम उसे आपकी दी हुई details के साथ Publish करेंगे। धन्यवाद!

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *