मनुष्य की मूर्खता

Baaj Ki Aatmshakti Motivational Storyएक गिद्ध का बच्चा अपने बाप से बोला “पापा आज मुझे इन्सान का गोश्त खाना हैं।” गिद्ध बोला “ठीक हैं बेटा शाम को ला दूँगा।” गिद्ध गोश्त लाने के उड़ गया और बहुत देर तक मनुष्य का गोश्त ढूढ़ता रहा। अंत में वह निराश होकर अपने घर लौट रहा था तो जंगल में उसे एक मरा हुआ सुअर दिखाई दिया। गिद्ध ने सोचा क्यों न इसे ही ले लेता हूँ। कुछ तो होगा आज के खाने के लिए, बच्चों को भूखे तो नहीं सोना पड़ेगा। गिद्ध सुअर का गोश्त ले कर घर पहुँच गया।

घर पहुँचते ही गिद्ध का बच्चा बोला “पापा ये तो सुअर का गोश्त है”, मुझे तो इनसान का गोश्त खाना है। गिद्ध बोला “ठीक है कल तक मिल जाऐगा।” सुबह होते ही गिद्ध खाने की खोज में निकल गया। वह पूरा दिन भटकता रहा पर उसे कहीं भी इंशान का गोश्त नहीं मिला। नाकाम होकर गिद्ध वापस अपने घोसले की उड़ चला कि रास्ते में ही उसे मरी गाय दिखाई पड़ी। गिद्ध नीचे उतरा और उस गाय का गोश्त ले कर घर चल दिया।

घर पहुँचते ही गिद्ध का बच्चा बोला “पापा ये तो गाय का गोश्त है”, मुझे तो मनुष्य का गोश्त ही खाना है। अब गिद्ध बहुत परेशान हो गया क्योंकि दो दिनों से उसके बच्चे ने कुछ भी नहीं खाया था। कुछ देर बाद उसके दिमाग में विचार आया और घर में रखे दोनों गोश्त के टुकड़ों को लेकर उड़ गया। उसने सुअर का गोश्त एक मसजिद के पास और गाय का गोश्त मंदिर के पास फेंक दिया। दूर पेड़ पर बैठकर इंतजार करने लगा।

कुछ देर के बाद वहां हिन्दू और मुश्लिम में आपस में झगड़े शुरू हो गए, लोग एक दूसरे को मारने पर उतारू हो गये। देखते ही देखते थोडी देर के बाद वहाँ ढेर सारी इन्सानो की लाशे बिछ गई। गिद्ध ने अपने बेटे को बुलाया और बाप बेटे ने जम के इन्सानो का गोश्त खाया।

खाने के बाद जब पेट भर गया तो गिद्ध का बच्चा बोला “पापा ये कैसे हुआ? इतना सारा गोश्त? गिद्ध बोला “बेटा ये इन्सान है ही ऐसा, भगवान, अल्लाह ने तो इसे इन्सान बना के पैदा किया पर धर्म के नाम पर इसे “जानवर” से भी बदतर बनाया जा सकता है। और ये काम इन इंसानों में बैठे कई ……….. गिद्ध कर रहे है। आज हम ने कर दिया…

इस कहानी का इंसान की खाल में छुपे राजनीतिक भेड़ियों से सीधा सम्बंध नही है। पर जानवर भी जानते हैं इंसान की शक्ल में बहुत से भेड़िये हैं जो हिन्दू और मुसलमान को अपने राजनीतिक स्वार्थो के लिए उनकी लाशों पर अपनी राजनीतिक रोटियां सेंकते हैं और मानवता को शर्मसार करते हैं। कृप्या ऐसे भेड़ियों से बचें।

यदि आपके पास स्वलिखित कोई अच्छे लेख, कविता, News, Inspirational Story, या अन्य जानकारी लोगों से शेयर करना चाहते है तो आप हमें “info@sochapki.com” पर ईमेल कर सकते हैं। अगर आपका लेख हमें अच्छा लगा तो हम उसे आपकी दी हुई details के साथ Publish करेंगे। धन्यवाद!

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *