फादर्स डे या पितृ दिवस

“फादर्स डे” या “पितृ दिवस” (Father’s Day) यह एक ऐसा दिवस होता है, जब घर के बेटे और बेटियां अपने घर के मुखिया यानी कि पिता को याद करते हैं। पिता घर का वह हिस्‍सा होता है जो गम में अपनी आखें नम भी नहीं होने देता और खुशियों को सभी के साथ मिलकर बांटता है। बचपन से एक पिता खुद को सख्त बनाकर हमें कठिनाइयों से लड़ना सिखाता है। लेकिन जब वो बूढ़े होने लगते हैं तो उनकी ये सख्ती कहीं खो सी जाती है। जिंदगी की लड़ाई के लिए हमें तैयार करने में हमारे पापा खुद कितने कमजोर हो जाते हैं इसका अंदाजा हमें बहुत बाद में लगता है।

माँ घर की रौनक है तो पिता से घर का गौरव व असितत्व होता है। माँ के पास भावों की अश्रुधारा तो पिता के पास पुरुषार्थ का संयम होता है। हमारे स्वास्थ्य की चाहत से सुस्वादु भोजन बनाने वाली हमारी माँ है तो जीवन भर के भोजन की व्यवस्था करने वाले पिता ही तो हैं। कभी चोट लगने पर सहसा मुँह से “ओह माँ” ही निकलता है, माँ पीटे या प्यार करे सभी माँ-माँ ही तो करते हैं। लेकिन जीवन में बड़ी विपदा खड़ी दिखाई देती है तब मुँह से “बाप रे” यही निकलता है। माँ प्रेम है, करुणा, वात्सल्य की प्रति मूर्ति है फिर भी बड़े संकट आने पर पिता ही याद आते हैं क्योंकि पिता एक शीतल छाया वाला वट वृक्ष है जो स्वयं धूप में रहकर भी सम्पूर्ण परिवार को शीतल छाया रूपी सुख प्रदान करते हैं।

Fathers Day in Hindiकहते हैं मां के चरणों में स्वर्ग होता है, मां बिना जीवन अधूरा है लेकिन अगर मां जीवन की सच्चाई है तो पिता जीवन का आधार, मां बिना जीवन अधूरा है तो पिता बिना अस्तित्व अधूरा। जीवन तो मां से मिल जाता है लेकिन जीवन के थपेड़ो से निपटना तो पिताजी ही सिखाते हैं, जिंदगी की सच्चाई के धरातल पर जब बच्चा चलना शुरू करता है तो उसके कदम कहां पड़े और कहां नहीं.. ये समझाने का काम पिता ही करते हैं। ‘मेरा प्यार, मेरा गुरूर, मेरी ताकत, मेरी जिंदगी हैं पापा’ समाज की बंदिशो से अपने बच्चे को निकालने का काम एक पिता ही कर सकता है।

पिता अगर साथ है तो किसी बच्चे को असुरक्षा नहीं होती है। पिता एक वट वृक्ष है जिसके पास खड़े होकर बड़ी से बड़ी परेशानी छोटी हो जाती है। वक्त आने पर वो दोस्त बन जाते है तभी तो हर लड़की अपने जीवन साथी में अपने पिता का अक्स खोजती है। हर लड़की की नजर में उसके रीयल हीरो उसके पापा ही होते हैं इसलिए तो उसकी ख्वाहिश होती है कि उसका ड्रीम पार्टनर उसके पापा जैसा ही हो। जिस तरह उसके पिता उसके पास जब होते हैं तो उसे भरोसा होता है कि कोई भी नापाक इरादे उसे छू नहीं सकते हैं। उसे अपनी सुरक्षा और ना टूटने वाले भरोसे पर गर्व होता है इसलिए वो जब भी अपने साथी के बारे में सोचती है तो उसकी कल्पनाओं में उसके पिता जैसी ही कोई छवि विद्दमान होती है।

Father Quotes in Hindi

जबकि हर बेटे की ख्वाहिश होती है कि वो ऐसा कुछ करे जिससे उसके पिता का सीना चौड़ा हो जाये। उनकी मुस्कुराहट और आंखो की चमक सिर्फ और सिर्फ अपने पिता के लिए होती है। उसकी पहली कामयाबी तब तक अधूरी होती है जब तक उसके पिता आकर उसकी पीठ नहीं थपथपाते हैं। अक्सर बाप-बेटे एक -दूसरे से भावनाओं का आदान-प्रदान नहीं करते हैं लेकिन सबको पता है कि दोनों ही के दिल में प्रेम का अनुपम समंदर विद्दमान होता है। कभी उस पिता की आंखो में झांकने की कोशिश कीजिये जब उसका बेटा उसके सामने अपनी पहली कमाई लेकर आता है। इसलिए तो कहते है कि पिता का कर्ज आप तब ही चुका सकते है जब आप अपने जैसे ही किसी नन्हे प्राणि को धरती पर लाते हैं।

आज के युवा ‘फादर्स डे’ के अवसर पर पिता के लिए दिन को खास बनाने में जुट जाते हैं, उन्हें या तो अपने पिता के साथ रात्रिभोज, सिनेमा या फिर किसी अन्य जगह जाना पसंद है। आप भी ‘फादर्स डे’ पर पिता को कुछ अलग तरह का तोहफा दे सकते हैं, उन्हें किसी स्पा में भेजें, या फिर उनकी पोशाक में कुछ नया बदलाव करें। आप भी अपने पिता को फादर्स डे की बधाई देने के लिये लिंक को शेयर करें और नीचे दिये गये कमेंट बॉक्‍स में लिखें।

दोस्तों, केवल आज विश्व पितृ दिवस के उपलक्ष्य में ही पिता को सम्मान देने से कुछ नहीं होगा अपितु अपने जीवन का प्रतिक्षण हमें माता-पिता के उपकारों के लिए कृतज्ञता ज्ञापित करनी चाहिए। अपने माता-पिता को सम्मान दें और उन्हें जीवन में कभी भी कोई कष्ट न होने पाये।

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *