Festivals Archive

बसंत के आगमन को सूचित करता है वसंत पंचमी का त्यौहार

या कुन्देन्दुतुषारहारधवला या शुभ्रवस्त्रावृता, या वीणावरदण्डमण्डितकरा या श्वेतपद्मासना।या ब्रह्माच्युतशंकरप्रभृतिभिर्देवः सदा पूजिता, सामां पातु सरस्वति भगवती निःशेषजाड्यापहा।। अर्थाथ, जो विद्या की देवी माँ सरस्वती कुन्द के फूल, चंद्रमा, हिमराशि और मोती के हार की तरह धवल, उज्जवल वर्ण की हैं और जो श्वेत वस्त्र धारण करती है, जिनके हाथ में वीणा शोभित है, जो श्वेत कमल पर विराजमान

होलिका दहन क्यों किया जाता है?

“हमारी ज़िन्दगी यूँ तो है, इक काँटों भरा जंगल। अगर लगने लगे मधुबन, समझ लेना कि होली है।।” कवी नीरज गोस्वामी की इन पंक्तियों से आप समझ सकते हैं कि होली का त्यौहार एक आम आदमी के जीवन में क्या महत्व रखता है। होली का त्यौहार एक ऐसा त्यौहार है जब इंसान तो क्या, प्रकृति

कैसे हुई वेलेंटाइन डे की शुरुआत? Valentine’s Day Story in Hindi

“आज बसंत की रात, गमन की बात न करना! धूप बिछाए फूल-बिछौना, बगिय़ा पहने चांदी-सोना, कलियां फेंके जादू-टोना, महक उठे सब पात, हवन की बात न करना! आज बसंत की रात, गमन की बात न करना!” – कवि गोपालदास नीरज फरवरी का महिना यानी की ऋतुराज बसंत का मौसम, सुहानी फिजायें और हवाओं में फैली

जानिए क्यों मनाते हैं मकर संक्रांति?

भारतवासियों के प्रमुख त्यौहारों में से एक, मकर संक्रांति का पर्व प्रत्येक वर्ष १४ जनवरी को पूरे देश में धूम धाम से मनाया जाता है। उत्तर प्रदेश में मकर संक्रांति को खिचड़ी के नाम से जाना जाता है। वहां इस दिन सूर्य को पूजा जाता है तथा दाल और चावल की बनी खिचड़ी खाते हैं और इसे दान

26 जनवरी गणतंत्र दिवस क्यों मनाते हैं? क्या है इसकी विशेषता?

26 जनवरी अर्थात गणतंत्र दिवस (Republic Day) एक राष्ट्रीय पर्व (National Festival) है जिसकी विशेषता और महत्ता सरकारी तौर पर ज्यादा है। सन 1950 में 26 जनवरी के दिन ही भारतीय संविधान को लागू किया गया। भारतीय संविधान में कानून व्यवस्था के साथ-साथ, देश की आम जनता के मौलिक अधिकार (Fundamental Rights) निहित हैं। 26

प्रयागराज अर्धकुम्भ मेला क्या है , क्यों लगता है?

जैसा कि आप सभी जानते हैं कि भारत त्योहारों का देश है, यहाँ पर हर त्यौहार बडी ही श्रद्धा – भक्ति से और बड़े पैमाने में मनाया जाता है। ऐसा ही एक उत्सव होता है कुम्भ का मेला। ये मेला इतना भव्य होता ही कि इस मेले को देखने के लिए लोग देश – विदेश

जानिए क्यों 1 जनवरी को ही मनाते हैं नया साल और क्या है इसका इतिहास

नया साल 2019 बस शुरू ही होने वाला है, ये बस कुछ ही कदम की दूरी पर है। आप लोगो ने न्यू इयर की पार्टी कैसे मनाएंगे ये सब प्लान करना शुरू कर दिया होगा। क्यों हैं ना,सही कहा ना मैंने। बहुत अच्छी बात है नया साल मनाना भी चाहिए, पर क्या कभी आपके मन

जन्माष्टमी व्रत पर्व एवं खानपान

दोस्तों जब -जब धरती पर अत्याचार बढ़ा है तब -तब किसी महाशक्ति ने मनुष्य के रूप में पृथ्वी पर अवतार लिया है। इसी प्रकार जब द्वापर युग अत्याचार बहुत बढ़ गया तो पृथ्वीवासियों को अत्याचार से मुक्ति दिलाने के लिए भगवान श्री कृष्ण ने जन्म लिया था। पुराणों के अनुसार श्री कृष्ण का जन्म भाद्रपद

सावन में शिव पूजा का महत्व व खान-पान

दोस्तों हिन्दी महीनों की शुरुआत चैत्र के महीने से होती है और चैत्र से पाँचवाँ महीना सावन का महीना कहा जाता है। भगवान शिव की अराधना सावन के इसी पवित्र महीने में की जाती है। भगवान शिव की पूजा सावन में प्रधान देवता के रूप में की जाती है। अतः हिन्दु धर्म में सावन के

गुरु नानक जयंती

हमारे देश में समय-समय पर अनेकों संत-महात्माओं ने जन्म लिया है। गुरुनानक देव जी उनमे से एक हैं। जिन्होंने हमारे देश और समाज को सुधारने में अपना सारा जीवन लगा दिया। ऐसे महात्मा को हम सत-सत नमन करते हैं। गुरु नानक देव का जन्मदिवस कार्तिक पूर्णिमा के दिन सिख समुदाय के प्रथम धर्मगुरु के रूप