Festivals Archive

जन्माष्टमी व्रत पर्व एवं खानपान

दोस्तों जब -जब धरती पर अत्याचार बढ़ा है तब -तब किसी महाशक्ति ने मनुष्य के रूप में पृथ्वी पर अवतार लिया है। इसी प्रकार जब द्वापर युग अत्याचार बहुत बढ़ गया तो पृथ्वीवासियों को अत्याचार से मुक्ति दिलाने के लिए भगवान श्री कृष्ण ने जन्म लिया था। पुराणों के अनुसार श्री कृष्ण का जन्म भाद्रपद

सावन में शिव पूजा का महत्व व खान-पान

दोस्तों हिन्दी महीनों की शुरुआत चैत्र के महीने से होती है और चैत्र से पाँचवाँ महीना सावन का महीना कहा जाता है। भगवान शिव की अराधना सावन के इसी पवित्र महीने में की जाती है। भगवान शिव की पूजा सावन में प्रधान देवता के रूप में की जाती है। अतः हिन्दु धर्म में सावन के

गुरु नानक जयंती

हमारे देश में समय-समय पर अनेकों संत-महात्माओं ने जन्म लिया है। गुरुनानक देव जी उनमे से एक हैं। जिन्होंने हमारे देश और समाज को सुधारने में अपना सारा जीवन लगा दिया। ऐसे महात्मा को हम सत-सत नमन करते हैं। गुरु नानक देव का जन्मदिवस कार्तिक पूर्णिमा के दिन सिख समुदाय के प्रथम धर्मगुरु के रूप

नवरात्रि या नवदुर्गा

हमारे देश को अगर हम पर्व और त्यौहारों का देश कहें तो कोई अतिशयोक्ति नहीं होगी क्योंकि सम्पूर्ण विश्व में सबसे ज्यादा पर्व भारत में ही मनाये जाते हैं। भारतीय संस्कृति विश्व की सर्वोत्तम संस्कृति है। विश्व के बहुत सारे देशों ने भारतीय संस्कृति और सभ्यता को अपनाया है। हमारे देश में अनेकों देवी-देवताओं, संत-महात्मा,

श्री कृष्ण जन्माष्टमी

भगवान श्री कृष्ण के जन्म दिवस को हम कृष्ण जन्माष्टमी (Krishna Janmashtami) के नाम से मनाते हैं। भारत ही नहीं अपितु संपूर्ण विश्व में यह पर्व बहुत ही हर्षोल्लाष के साथ मनाया जाता हैं। भगवान कृष्ण को लोग यशोदा नंदन, लीलाधर, देवकी नंदन, रास रचयिता व गिरिधर जैसे विभिन्न नामों से जानते हैं। कृष्ण भगवान

रक्षाबन्धन: भाई-बहन के परस्पर प्रेम का प्रतीक

रक्षाबन्धन हिन्दुओं का एक प्रमुख त्यौहार है जो प्रत्येक वर्ष श्रावण मास की पूर्णिमा के दिन मनाया जाता है। श्रावण (सावन) मास में मनाये जाने के कारण इसे श्रावणी (सावनी) या सलूनो भी कहते हैं। रक्षाबंधन भाई बहनों का वह त्योहार है तो मुख्यत: हिन्दुओं में प्रचलित है पर इसे भारत के सभी धर्मों के

बुद्ध पूर्णिमा

बौद्ध धर्म के संस्थापक महात्मा गौतम बुद्ध के सम्मान में बुद्ध पूर्णिमा का त्यौहार मनाया जाता है। यह बौद्ध धर्म का महत्वपूर्ण त्योहार है और महान उत्साह के साथ मनाया जाता है। इसी दिन, भगवान् बुद्ध को आत्मज्ञान की प्राप्ति हुई थी और निर्वाण या मोक्ष प्राप्त हुआ था। कुछ लोगों का मानना ​​है कि

अंतर्राष्ट्रीय मज़दूर दिवस (International Labour Day)

मई माह के पहले दिन अर्थात 1 मई को विश्व के लगभग सभी देशों में मई दिवस (May Day) या मजदूर दिवस मनाया जाता है। भवन निर्माण, कल-कारखानों और लघु उद्योगों में लगे मजदूर अपनी मेहनत से उद्योगपतियों की किस्मत तो चमकाते हैं लेकिन उनके और उनके परिवार का भविष्य अंधकारमय है। अंतर्राष्ट्रीय मज़दूर दिवस

Mata Siddhidatri (नवदुर्गा: माता सिद्धिदात्री)

नवरात्रि के नौवें दिन माता सिद्धिदात्री की पूजा की जाती है। नवमी के दिन माँ की पूजा करने के बाद नवदुर्गा का अनुष्ठान पूर्ण हो जाता है। कहते हैं माँ सिद्धिदात्री की आराधना करने से व्यक्ति को सभी प्रकार की सिद्धियां प्राप्त होती हैं और उसे सभी बुरे कर्मों से लडऩे की शक्ति मिलती है।

Maa Mahagauri (नवरात्रि अष्टमी माँ महागौरी पूजा)

नवरात्रि के आठवें दिन मां दुर्गा का आठवां रूप माता महागौरी की पूजा की जाती है। माता अपने भक्तों के भीतर पल रही बुराइयों को मिटाकर उनको सद्बुद्धि व ज्ञान की ज्योति जलाती है। मां महागौरी की आराधना करने से व्यक्ति को आत्मज्ञान की प्राप्ति होती है और उसके भीतर श्रद्धा विश्वास व निष्ठा की