बुद्ध पूर्णिमा

बुद्ध पूर्णिमा

बौद्ध धर्म के संस्थापक महात्मा गौतम बुद्ध के सम्मान में बुद्ध पूर्णिमा का त्यौहार मनाया जाता है। यह बौद्ध धर्म का महत्वपूर्ण त्योहार है और महान उत्साह के साथ मनाया जाता है। इसी दिन, भगवान् बुद्ध को आत्मज्ञान की प्राप्ति हुई थी और निर्वाण या मोक्ष प्राप्त हुआ था। कुछ लोगों का मानना ​​है कि “यशोदरा” गौतम पत्नी, उसकी सारथी चन्ना और अपने घोड़े कंटका बुद्ध पूर्णिमा के दिन पैदा हुए थे। इस दिन तीर्थयात्री बुद्ध पूर्णिमा उत्सव में भाग लेने के लिए दुनिया भर से बोधगया के लिए आते हैं।

बुद्ध जयन्ती (बुद्ध पूर्णिमा, वेसाक या हनमतसूरी) बौद्ध धर्म में आस्था रखने वालों का एक प्रमुख त्यौहार है। बुद्ध जयन्ती वैशाख पूर्णिमा को मनाया जाता हैं। पूर्णिमा के दिन ही गौतम बुद्ध का स्वर्गारोहण समारोह भी मनाया जाता है। इस दिन ५६३ ई.पू. में बुद्ध स्वर्ग से संकिसा मे अवतरित हुए थे। इस पूर्णिमा के दिन ही ४८३ ई. पू. में ८० वर्ष की आयु में, देवरिया जिले के कुशीनगर में निर्वाण प्राप्त किया था। भगवान बुद्ध का जन्म, ज्ञान प्राप्ति और महापरिनिर्वाण ये तीनों एक ही दिन अर्थात वैशाख पूर्णिमा के दिन ही हुए थे। ऐसा किसी अन्य महापुरुष के साथ आज तक नही हुआ है। इस प्रकार भगवान बुद्ध दुनिया के सबसे महान महापुरुष है। इसी दिन भगवान बुद्ध को बुद्धत्व की प्राप्ति हुई थी। आज बौद्ध धर्म को मानने वाले विश्व में ५० करोड़ से अधिक लोग इस दिन को बड़ी धूमधाम से मनाते हैं। हिन्दू धर्मावलंबियों के लिए बुद्ध विष्णु के नौवें अवतार हैं। अतः हिन्दुओं के लिए भी यह दिन पवित्र माना जाता है। यह त्यौहार भारत, नेपाल, सिंगापुर, वियतनाम, थाइलैंड, कंबोडिया, मलेशिया, श्रीलंका, म्यांमार, इंडोनेशिया तथा पाकिस्तान में मनाया जाता है।

गौतम बुद्ध राजकुमार सिद्धार्थ के रूप में 566 ई.पू. में कल्पतरु में पैदा हुआ थे, जब युवा राजकुमार ने दूसरो के दर्द और कमजोरी को महसूस किया मतलब वृद्धावस्था, रोग और मृत्यु को देखा तो वह अपने धन को छोड़ दिया और उच्च सत्य की मांग और एक तपस्वी बनाने का फैसला किया कई सालों के ध्यान अध्ययन, और बलिदान के बाद, उन्हें निर्वाण मिल गया और वे सिद्धार्थ से गौतम बुद्ध बन गये।

बुद्ध के ही बिहार स्थित बोधगया नामक स्थान हिन्दू व बौद्ध धर्मावलंबियों के पवित्र तीर्थ स्थान हैं। गृहत्याग के पश्चात सिद्धार्थ सात वर्षों तक वन में भटकते रहे। यहाँ उन्होंने कठोर तप किया और अंततः वैशाख पूर्णिमा के दिन बोधगया में बोधि वृक्ष के नीचे उन्हें बुद्धत्व ज्ञान की प्राप्ति हुई। तभी से यह दिन बुद्ध पूर्णिमा के रूप में जाना जाता है। बुद्ध पूर्णिमा के अवसर पर बुद्ध की महापरिनिर्वाणस्थली कुशीनगर में स्थित महापरिनिर्वाण मंदिर पर एक माह का मेला लगता है। यद्यपि यह तीर्थ महात्मा बुद्ध से संबंधित है, लेकिन आस-पास के क्षेत्र में हिंदू धर्म के लोगों की संख्या ज्यादा है और यहां के मंदिरों में पूजा-अर्चना करने वे बड़ी श्रद्धा के साथ आते हैं। इस मंदिर का महत्व बुद्ध के महापरिनिर्वाण से है। इस मंदिर का स्थापत्य अजंता की गुफाओं से प्रेरित है। इस मंदिर में भगवान बुद्ध की लेटी हुई (भू-स्पर्श मुद्रा) ६.१ मीटर लंबी मूर्ति है। जो लाल बलुई मिट्टी की बनी है। यह मंदिर उसी स्थान पर बनाया गया है, जहां से यह मूर्ति निकाली गयी थी। मंदिर के पूर्व हिस्से में एक स्तूप है। यहां पर भगवान बुद्ध का अंतिम संस्कार किया गया था। यह मूर्ति भी अजंता में बनी भगवान बुद्ध की महापरिनिर्वाण मूर्ति की प्रतिकृति है। आज भी उनके अनुयाई दूर-दूर से वहां आते हैं, तथा गौतम बुद्ध के अनमोल विचार और उनके दिए हुए उपदेशों का पालन करते हैं।

श्रीलंका व अन्य दक्षिण-पूर्व एशियाई देशों में इस दिन को ‘वेसाक’ उत्सव के रूप में मनाते हैं जो ‘वैशाख’ शब्द का अपभ्रंश है। इस दिन बौद्ध अनुयायी घरों में दीपक जलाए जाते हैं और फूलों से घरों को सजाते हैं। विश्व भर से बौद्ध धर्म के अनुयायी बोधगया आते हैं और प्रार्थनाएँ करते हैं। इस दिन बौद्ध धर्म ग्रंथों का पाठ किया जाता है। मंदिरों व घरों में बुद्ध की मूर्ति पर फल-फूल चढ़ाते हैं और दीपक जलाकर पूजा करते हैं। बोधिवृक्ष की भी पूजा की जाती है। उसकी शाखाओं को हार व रंगीन पताकाओं से सजाते हैं।

वृक्ष के आसपास दीपक जलाकर इसकी जड़ों में दूध व सुगंधित पानी डाला जाता है। इस पूर्णिमा के दिन किए गए अच्छे कार्यों से पुण्य की प्राप्ति होती है। पिंजरों से पक्षियॊं को मुक्त करते हैं व गरीबों को भोजन व वस्त्र दान किए जाते हैं। दिल्ली स्थित बुद्ध संग्रहालय में इस दिन बुद्ध की अस्थियों को बाहर प्रदर्शित किया जाता है, जिससे कि बौद्ध धर्मावलंबी वहाँ आकर प्रार्थना कर सकें।

बौद्धों या पंचशील के पाँच सिद्धांत:-
सत्य
अहिंसा
अस्तेय
अपरिग्रह
ब्रम्हचर्य

इस दिन पर एक निष्पक्ष माला लुम्बिनी में भी आयोजित किया जाता है जो भगवान बुद्ध का जन्म स्थान है। यह बौद्धों के लिए बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि यह बौद्धों के लिए एक तीन बार धन्य दिन है।

loading...

Comments

  1. By Alvin

    Reply

  2. By malikhan singh Shakya

    Reply

  3. By malikhan singh Shakya

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *